Viewers : 2443554

जमकर खाईए चिकेन-मटन, कोरोना, बर्ड-फ्लू और लॉक डाउन तीनो के दायरे से बाहर है नॉनवेज




कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन या बर्ड फ्लू  के कारण अगर आप मांसाहारी होकर भी मांस-मछली का सेवन नहीं कर पा रहे हैं तो अब नो टेंशन दबाकर खाइये मटन - चिकन। बिहार के पशुपालन विभाग ने बक़ायदा प्रेस कांफ़्रेंस कर ये साफ़ कर दिया है कि मांस, मछली, मटन हो या अण्डा इसका सेवन करिए। कोरोना और बर्ड फ्लू  की वजह से डरने की कोई ज़रूरत नहीं है।

बिहार सरकार के कृषि सचिव एन सरवण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ये जानकारी देते हुए बताया कि कृषि और पशुपालन क्षेत्र लॉकडाउन से बाहर रहेंगें। मांस-मछली की दुकानें खुली रहेंगी। पशुओं के चारा और कृषि से जुड़े हुए सामग्री के लाने ले जाने पर रोक नहीं रहेगी। कोरोना वायरस का संक्रमण मांस मछलियों से जुड़ा हुआ नहीं है। उन्होंने बताया कि भारतीय पॉल्ट्री अभी खाने के लिए सुरक्षित हैं ऐसे में कोरोना संक्रमण के दौरान मांस मछली खाने में कोरोंना संक्रमण का कोई संबंध नहीं है। सरवन ने बताया कि भारतीय खाद्य संरक्षण एवं मानक प्राधिकरण ने ये रिपोर्ट दी है। 100 डिग्री के ऊपर खाना बनाने पर कोई भी वायरस बैक्टीरिया नहीं जिंदा रह पाता बल्कि 70 डिग्री पर ही सभी वायरस और बैक्टीरिया मर जाते हैं। सरवन ने बताया कि व्हाट्सएप ग्रुप पर जो भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं खाल कर मांस मछलियों को कोरोना से जोड़कर वो गलत है।


कृषि को लेकर भी महत्वपूर्ण जानकारी देते हुए सचिव ने बताया कि गेहूं की फसल कटने का समय हो गया है ऐसे में कृषि से जुड़े हुए काम लॉकडाउन से बाहर हैं और किसानों को फसल काटने की छूट है। इसके लिए किसानों को सावधानी बरतने के निर्देश दिए गए हैं जिसमें सोशल डिस्टेंस मेंटेन कर काम करना है। किसानों के पुआल जलाने पर भी राज्य सरकार काफी गंभीर है। कोई भी किसान फसल अवशेष को ना जलाएं इसको लेकर सभी जिलाधिकारियों को भी निर्देश दिया गया है।



Leave your comment