Viewers : 2490882

कोरोना विस्फोट के बाद सील हुआ गया शहर का आधा हिस्सा, कोतवाली थाना भी बंद




कोरोना महामारी के मरीजों की संख्या पुरे बिहार में तेज़ी से बढ़ रही है।  बिहार के गया में कोरोना विस्फोट होने के बाद आधे शहर को सील कर दिया गया है।  पुलिस लाइन में सिपाही, दरोगा और एक डीएसपी की रिपोर्ट पहले ही कोरोना पॉजिटिव आ चुकी थी।  इसके बाद कोतवाली थाना के दो दरोगा और 7 सिपाही की रिपोर्ट एक साथ पॉजिटिव आई है। जिसके बाद गया पुलिस महकमा सकते में आ गया है।   

इस घटना के बाद कोतवाली थाना को अगले आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है और इसे तत्काल गुरुद्वारा टीओपी में शिफ्ट किया गया है।  कोतवाली थाना के भवन को लगातार सेनेटाइज किया जा रहा है। वहीं, शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों को वरीय अधिकारियों द्वारा सतर्क रहने की हिदायत दी गई है और हर समय सोशल डिस्टेंसिंग एवं मास्क के प्रयोग की अपील की गई है। 

कहाँ कहाँ हुआ शहर में सील :-

नौ पुलिसकर्मी समेत 35 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद डीएम के निर्देश पर सदर एसडीओ इन्द्रवीर कुमार ने विशेष आदेश निकाल कर कई इलाकों को सील किया है।   इन इलाकों में मजिस्ट्रेट और पुलिसकर्मी की तैनाती की है। सील होने वाले इलाके में मुख्य रूप से नई गोदाम से पीरमंसुर तक जीबी रोड, बजाज रोड, सराय रोड, बारी रोड, बीएन झा रोड, रमना रोड, टिकारी रोड, मुरारपुर रोड एवं कई अन्य मार्ग हैं।   इन रोड से आम लोगों के प्रवेश को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है और शहरवासियों से मास्क लगाने की अपील की जा रही है।   बिना मास्क लगाए सड़क पर निकलने वाले लोगों से नगर निगम द्वारा जुर्माना भी वसूला जा रहा है। 

उपमहापौर समेत कई वीआईपी भी कोरोना के चपेट में

गया में करोना मरीजों की संख्या 300 के पार हो चुकी है। इसमें कई वीआईपी भी शामिल हैं। नगर निगम के उप महापौर और उनका परिवार कोरोना पॉजिटिव होने के बाद बोधगया मे अभी भी आइसोलेट है। वहीं, एएनएमसीएच के प्राचार्य एवं जिला प्रशासन के एक सीनियर डिप्टी कलक्टर ठीक होकर वापस ड्यूटी में लग चुके हैं।  एक अन्य डिप्टी कलेक्टर, एक डीएसपी एवं कई पुलिसकर्मी अभी भी आइसोलेट होकर कोरोना से जंग लड़ रहे हैं।  
 




Leave your comment