Viewers : 2490886

क्या ऐसे लड़ेगा बिहार कोरोना से ??? सरकारी दावे का हाल जानिये ---




कोरोना संदिग्ध सैंपल जांच के लिए अस्पताल का चक्कर लगाते लगाते तोड़ा दम

तीन दिन से अस्पतालों का चक्कर लगाते कोरोना संदिग्ध ने बिना इलाज व जांच के दम तोड़ दिया। हद तो यह हो गयी की मरने के बाद भी प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने उसके शव से सैंपल नहीं लिया। आनन-फानन में उसके शव का दाह संस्कार करा दिया। वह भी तब जब परिजनों ने रूकनपुरा के पास बेली रोड को जाम कर हंगामा किया।

दरअसल मामला यह है कि रूकनपुरा मुसहरी के सामने एक मकान में रहनेवाले विनोद कुमार पिछले तीन-चार दिनों से बीमार थे। उनको बुखार और खांसी के साथ सांस लेने मे हल्की तकलीफ भी हो रही थी। कोरोना के सभी लक्षण होने के कारण  वे पिछले तीन दिनों से अपना सैंपल जांच के लिए  पाटलिपुत्रा अशोका और न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल का चक्कर लगाते रहे। वहां कार्यरत स्वास्थ्यकर्मी बिना सैंपल लिए उन्हें टरकाते रहे। कभी उन्हें डॉक्टर की पर्ची लाने के लिए कहा गया तो कभी दूसरे सेंटर पर जाने की सलाह दी गई। इस बीच शुक्रवार की सुबह चार बजे उनकी जान चली गई। 

उसकी मौत के बाद उसके परिजन और आस-पड़ोस के लोग आक्रोशित हो गए। उन्होंने अस्पताल प्रशासन और स्वास्थ्यकर्मियों की लापरवाही को उनकी मौत का जिम्मेवार ठहराते हुए सड़क जाम कर दिया। लगभग डेढ़ घंटे तक सड़क पर जाम सी स्थिति बनी रही। परिवार के लोग दाह संस्कार के लिए भी मना करने लगे। उनलोगो का कहना था की पूरा लक्षण कोरोना से मिलने के बाद भी शव का सैंपल जांच के लिए नहीं लिया गया। संक्रमण के डर से आसपास के लोग व स्वा्स्थ्य विभाग की टीम उनके शव को हाथ नहीं लगा रही थी। एसडीएम से बात होने के बाद उन्होंने पांच पीपीई किट व शव वाहन उपलब्ध कराए तब जाकर विनोद का दाह संस्कार हो सका। 


Leave your comment