Viewers : 2630349

बिहार के विधानसभा चुनाव में शहर में भाजपा तो ग्रामीण इलाकों में राजद का रहा दबदबा, JDU का समान प्रदर्शन




बिहार विधानसभा चुनाव के परिणाम से एक बार फिर साफ हो गया कि भाजपा की पकड़ अब भी शहरी इलाकों में बनी हुई है। जीती हुई सीटों में पार्टी ने उन इलाकों पर अधिक जीत हासिल की है जो शहरी या अर्धशहरी इलाकों की है। छह दर्जन से अधिक सीटों पर जीत हासिल करने वाली भाजपा ने शहरी क्षेत्र की अपनी परम्परागत सीटों पर कब्जा जमाने में सफलता हासिल की। इसके उलट राजद ने उन सीटों पर जीत हासिल की है जो  ग्रामीण इलाकों से जुड़ी हुई है।

 इस चुनाव में भाजपा 110 सीटों पर चुनाव लड़ी। एनडीए में सीट बंटवारे में भाजपा ने उन सीटों को प्राथमिकता दी थी, जो शहरी या अर्धशहरी इलाकों की थी। साथ ही, वैसी सीटों का भी चयन किया जिस पर परम्परागत रूप से भाजपा चुनाव लड़ती रही है। शहरी इलाकों में उम्मीदवार देने के पीछे पार्टी की सोच थी कि उसके कोर वोटर सवर्ण व वैश्य समुदाय की आबादी इन इलाकों में अधिक रहती है। पार्टी को इस रणनीति का लाभ भी मिला।
 
राजधानी पटना को ही लें तो शहर की चारों सीटें दीघा, कुम्हरार, बांकीपुर, पटना साहिब सीट फिर से भाजपा के कब्जे में आ गई। इसी तरह कहलगांव, बांका, कटोरिया, लखीसराय, गया शहर, जमुई, नौतन, चनपटिया, बेतिया, गोविंदगंज, गोपालगंज, दरौली(सु), दरौंदा, गोरियाकोठी, तरैया, बिहपुर, बाढ़, बेगूसराय में भाजपा ने बढ़त बना ली। इसी तरह नरकटियागंज, रामनगर (सु), चिरैया, रीगा, बथनाहा, बेनीपट्टी, खजौली, बिस्फी, छातापुर, नरपतगंज, प्राणपुर, सहरसा,  दरभंगा, केवटी, जाले, औराई और पातेपुर जैसी शहरी-अर्धशहरी सीटें भी भाजपा के खाते में आ गई।  

दूसरी ओर राजद ने उन सीटों पर कब्जा जमाया जो ग्रामीण इलाकों से जुड़ी है। दरअसल, राजद ने सीटों के चयन में उन सीटों को प्राथमिकता दी थी जो ग्रामीण इलाकों से जुड़ी हुई थी। ग्रामीण इलाकों में राजद का कोर वोटर बैंक मुस्लिम व यादवों का दबदबा अधिक है। राजद को इस रणनीति का लाभ मिला और पार्टी ने पूर्व की तरह ही अपनी बढ़त बना ली। 

मसलन, राजधानी में ही शहरी इलाकों की सीटों पर भाजपा ने कब्जा जमाया तो दूसरी ओर पटना के ग्रामीण इलाकों वाली विधान सभा सीटों में मोकामा, दानापुर, बख्तियारपुर, फतुहा जैसी सीटों पर राजद ने कब्जा जमा लिया। इसी तरह रामगढ़, शाहपुर, धोरैया, भभुआ, नोखा, बेलागंज, दरभंगा ग्रामीण, अतरी, ओबरा जैसी सीटों पर राजद ने कब्जा जमा लिया।    

वहीं, जदयू का प्रदर्शन शहरी इलाकों के साथ ही अर्धशहरी व ग्रामीण इलाकों में भी बेहतर रहा। जदयू के परिणाम से यह साफ हो गया कि उसकी पकड़ समान रूप से शहरी, अर्धशहरी व ग्रामीण इलाकों में है। पार्टी के खाते में जो सीटें आई, उसमें सुपौल, बहादुरपुर, बेलहर, कुशेश्वरस्थान, हरलाखी, हरनौत, वाल्मिकीनगर, आलमनगर, अमरपुर, धमदाहा, रूपौली, फुलपरास, बाबूबरही, सुल्तानगंज, नालंदा जैसी सीटें शामिल हैं। ये वैसी सीटें हैं जो शहरी, अर्धशहरी के साथ ही ग्रामीण इलाकों से जुड़ी हुई है।  
 




Leave your comment